कोरोना से बचाव के उपाय : मकर संक्रांति पर पटना के घाटों गंगा स्नान पर रोक !...जिला प्रशासन की अपील-घरों में ही करिए स्नान..

Edited By:  |
Reported By:
makar santranti makar santranti

पटना। कोरोना के संक्रमण को देखते हे पटना जिला प्रशासन ने कोविड संक्रमण के खतरे को देखते हुए गंगा घाटों और तालाबों में सामूहिक स्नान नहीं होगी। जिला प्रशासन ने ने घाटों पर भीड़भाड़ नहीं लगाने और अपने घर में ही स्नान करने को प्राथमिकता देने को कहा है।

कोविड संक्रमण के वर्तमान दौर में मकर संक्रांति पर्व के सुरक्षित, शांतिपूर्ण एवं गाइडलाइन के अनुरूप आयोजन सुनिश्चित कराने के लिए जिलाधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह और वरीय पुलिस अधीक्षक मानवजीत सिंह ढिल्लों द्वारा सभी एसडीओ एसडीपीओ/सीओ/बीडीओ सहित जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की गई। बैठक में अधिकारियों को गाइडलाइन के अनुरूप प्रतिबंधों/ नाइट कर्फ्यू/ कोविड मानक को लागू करने तथा नदी गश्ती जारी रखने का निर्देश दिया।

गाइडलाइन के अनुरूप सांस्कृतिक कार्यक्रम, मेला आदि का आयोजन नहीं होगा। किसी समारोह के आयोजन हेतु नाव का परिचालन भी नहीं किया जाएगा। विशेषकर दियारा क्षेत्र में विशेष नजर रखने का निर्देश दिया गया।

जिलाधिकारी ने गाइडलाइन के अनुरूप प्रतिबंधों को लागू करने तथा नदी पेट्रोलिंग तेज रखने का सख्त निर्देश दिया गया है। नदी गश्ती के दौरान मजिस्ट्रेट,पुलिस पदाधिकारी,एनडीआरएफ,एसडीआरएफ की टीम की तैनाती करने का निर्देश दिया गया। जब तक गंगा घाट से व्यक्ति वापस नहीं लौट जाएं तब तक नदी गश्ती लगातार जारी रखने का निर्देश दिया ताकि कोई अप्रिय घटना ना हो।

मकर संक्रांति के अवसर पर गंगा घाटों पर भीड़ की आशंका को देखते हुए संयुक्त आदेश भी जारी किया गया है और पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की तैनाती की गई है। सभी अधिकारियों को सरकार द्वारा दिशा निर्देश का अनुपालन सुनिश्चित कराने का सख्त निर्देश दिया गया है।

जिलाधिकारी ने सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को 3 दिनों तक मास्क चेकिंग का सघन अभियान चलाने का सख्त निर्देश दिया तथा उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध दंडात्मक कार्रवाई के तहत जुर्माना करने का निर्देश दिया। इसके लिए दुकान ,सब्जी मंडी तथा भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में मास्क चेकिंग का अभियान चलाने को कहा गया। इसके प्रभावी क्रियान्वयन हेतु दंडाधिकारी पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की तैनाती करने का निर्देश दिया गया।