मनरेगा कार्य समीक्षा : कार्य की सुस्त गति पर आयुक्त की नाराजगी...जिम्मेदार अधिकारियों पर होगी कार्रवाई..

Edited By:  |
Reported By:
MANREGA MANREGA

RANCHI- मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी ने मनरेगा योजना एवं रूर्बन के क्रियान्वयन की सभी उप विकास आयुक्त के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। बैठक में मनरेगा योजना के तहत किए जा रहे कार्यों की मनरेगा आयुक्त ने जिलावार समीक्षा की। समीक्षा के क्रम में अपेक्षाकृत कम प्रगति करने वाले जिलों के डीडीसी को मनरेगा आयुक्त ने कार्य में तेज़ी लाने का निदेश दिया। मनरेगा आयुक्त ने स्पष्ट कहा कि मनरेगा कार्य का उदेश्य ग्रामीणों को रोजगार उपलब्ध करवाना है। गांव से पलायन नहीं हो, इसे सुनिश्चित करें और ऐसा नहीं होने पर जबावदेही तय करते हुए कार्रवाई की जाएगी।

मनरेगा आयुक्त ने सभी लंबित योजनाओं को 1 सप्ताह के अंदर पूरा करने का निर्देश दिया। समीक्षा के क्रम में मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी ने मनरेगा के तहत कार्य करने वाले श्रमिकों को ससमय मजदूरी का भुगतान सुनिश्चित करने के लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी को निर्देश दिया और अधिक से अधिक श्रमिकों को एक सौ दिन तक रोजगार मुहैया कराने का निर्देश दिया। बैठक के दौरान मनरेगा से गांव में रोजगार सृजन को लेकर अन्य कई दिशा निर्देश दिया। मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को निर्देशित किया गया कि मनरेगा कार्य में थोड़ी सी भी लापरवाही नहीं हो। उन्होंने मनरेगा से बन रही योजनाओं का स्थल निरीक्षण करने समेत अन्य कई दिशा निर्देश दिए। रिजेक्टेड ट्रांजैक्शन, पीएफएमएस के द्वारा मनरेगा श्रमिकों के रिजेक्टेड खाता अविलंब सुधार करने, शतप्रतिशत योजना का जिओ टैगिंग करने एवं लक्ष्य के अनुरूप गांव में योजना संचालित कर मानव दिवस सृजन करने को लेकर निर्देश दिया। बैठक में सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को मनरेगा में 50 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।