news-details

आरएसएस के बहाने नीतीश -श्याम आमने -सामने

आरएसएस को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी पार्टी के विधायक श्याम रजक आमने -सामने आ गए हैं। नीतीश आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान समर्थन में आगे आये तो श्याम रजक ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से प्रायश्चित करने की मांग कर डाली। पटना में स्वंयसेवकों को सम्बोधित करते हुए संघ प्रमुख ने जरुरत पड़ने पर तीन दिनों में सेना तैयार करने की बात कही थी। इसको लेकर उनकी आलोचना हो रही थी। नीतीश ने कहा कि इसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। कोई संगठन अगर देश की रक्षा या सेवा का भाव प्रदर्शित करता है तो इसमें  बुराई नहीं है। वहीँ संघ पर निशाना साधते श्याम रजक ने कहा कि भागवत को दलितों के साथ हज़ारों वर्ष तक हुए शोषण के लिए प्रायश्चित करना चाहिए। हुए कहा कि कहा कि दलितों और पिछड़ों को हजारों वर्षों तक शस्त्र व शास्त्र से दूर रखा गया। इसी वजह से भारत पर हमेशा विदेशी ताकतों ने राज किया। अगर दलितों को शस्त्र रखने का अधिकार और नेतृत्व दिया गया होता तो भारत की यह स्थिति  नहीं रहती। दलित को शास्त्र-अध्यापन और शिक्षा से दूर रखे जाने के कारण दूसरे हमलावरों को भारत में प्रवेश करने का मौका मिल गया।संघ प्रमुख ने बिहार यात्रा के दौरान कहा था कि आपसी फुट के कारण ही दूसरों ने हम पर राज किया। श्याम रजक इन दिनों पार्टी से नाराज चल हैं। 

You can share this post!