news-details

नगालैंड विधानसभा : जहाँ कोई महिला नहीं बनी MLA 5 महिला हैं उम्मीदवार , क्या टूटेगा रिकार्ड

प्रवीण बागी 

________________________________________

क्या नगालैंड का विधानसभा में इसबार कोई महिला विधायक पहुंचेगी , यह सवाल नगालैंड में हर जगह पूछा जा रहा है। नगालैंड अनोखा ऐसा प्रदेश है जहाँ कोई महिला अबतक विधायक नहीं बनी। इसबार 5 महिलायें चुनाव मैदान में हैं। पहली बार इतनी महिलायें चुनाव लड़ रही हैं। शायद इसी लिए यह सवाल  पूछा जा रहा है। नगालैंड विधानसभा में 60  सीटें हैं। 27 फ़रवरी को वोट पड़ने हैं। अबतक वहां जितने भी चुनाव हुए हैं ,उसमें कोई महिला विधायक नहीं चुनी गई है। हाँ ,  1977 में  चुनाव जीतकर रानो एम शाइजा लोकसभा पहुंची थी। वे पहली महिला थीं ,जो नागालैंड से चुनी गई थीं। लोकसभा में तो रेकार्ड टूटा ,लेकिन क्या विधानसभा में भी इसबार महिलाओं का  प्रवेश हो पायेगा ? 

2013 में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में मात्र 2 महिलाओं ने नामांकन किया था। लेकिन इसबार 5 महिलाओं ने नामांकन किया है। इससे महिलाओं में खासा उत्साह है। इन पांच प्रत्याशियों में से एक उम्मीदवार नगालैंड के पूर्व शिक्षा मंत्री न्येईवांग कोनयक की बेटी हैं। वे  नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी की ओर से चुनाव मैदान में उतरी हैं। वहीं नगालैंड यूनिवर्सिटी में पॉलिटिकल साइंस की प्रोफेसर मोआमीनला आमेर भी चुनाव लड़ रही हैं। विधानसभा चुनाव लड़ने वाली महिला प्रत्याशी अवान कोनयक का कहना है कि विधानसभा न पहुंचने के पीछे महिलाओं की ही गलती है न की पुरुषों की, क्योंकि वो खुद राजनीति में आने से बचती रही हैं, लेकिन अब समय बदल रहा है और अब महिलाएं हर क्षेत्र में आगे हैं।  सबकी नजर उन पांच महिलाओं पर है  कि क्या ये जनता का दिल जीत सकेंगी ?   

नगालैंड का गठन 1 दिसंबर 1963 को हुआ था। फ़रवरी 1964 में विधानसभा का पहला चुनाव हुआ था। इसके पहले वह असम का हिस्सा था।     

You can share this post!

Leave Comments

madhuranjan kumar:   This Demo Message
madhuranjan kumar:    This Is Demo Message
Chandu.lal.marandi:   


You have characters left.