ब्रेकिंग न्यूज़  
  • कशिश के हाथ लगा CCTV फुटेज, हॉस्टल से बाहर आखिर क्यों निकला था विनय ?

    रांची। राजधानी का पॉप्यूलर सफायर इंटरनेशल स्कूल , जो बच्चों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की शिक्षा देने का दावा करती है। लेकिन वहां के 7 वीं क्लास में पढ़ने वाले 12 साल के बच्चे विनय की स्कूल में ही निर्मम हत्या ने स्कूल का एक अलग ही चेहरा सामने ला खड़ा किया। कशिश के हाथ एक CCTVफुटेज लगी है , जिसमें विनय को आखिरी बार हॉस्टल से रात को निकलते दिखाया गया है। विनय मस्त होकर हाथ में चाभियों की रिंग लेकर घुमाता हुआ हॉस्टल से बाहर निकला है। उसके जाने के अंदाज से इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि वह किसी के बुलावे पर जा रहा था। विनय सीढ़ियों से उतरकर दाहिनी ओर जा रहा था और उस तरफ ही टीचर्स का क्वाटर है।  इस हत्याकांड में सामने आये फुटेज ने अब कई सवाल खड़े कर दिये हैं।  सवाल इन महंगे स्कूलों की व्यवस्था और साथ ही इसमें पढ़ाने वाले शिक्षकों के उपर भी उठ रहे हैं। । चूंकि स्कूल के हॉस्टल में इस मेधावी छात्र की हत्या ने कई कड़ियां जोड़ दी हैं। रांची के एसएसपी कुलदीप द्विवेदी ने बच्चे के साथ अननेचुरल सेक्स किये जाने की आशंका जतायी जा रही है। पुलिस ने इस मामले में स्कूल के शिक्षकअनूप चक्रवर्ती, ध्रुवा नंद जेना और मंतोष सेन गुप्ता के साथ कुछ सुरक्षाकर्मियों को भी हिरासत में लिया है और पूछताछ जारी है। गिरफ्तार तीनों टीचर्स के रूम की तलाशी ली गई तो वहां से कुछ आपत्तिजनक सामान बरामद किये गए हैं । जबकि एक शिक्षक के कमरे की दीवार पर फेल – फेल लिखा पाया गया है। कई  मामले में एक के बाद एक कड़ियां जुड़ रही हैं । विनय की मौत से पहले उसकी बुरी तरह से पिटाई का मामला सामने आ रहा है। फिलहाल पुलिस एक – एक पहलू को खंगाल रही है और इस केस के कई पहलू खुलकर सामने आने की बात भी कही जा रही है। पुलिस को स्कूल के CCTVफुटेज से भी कुछ अहम जानकारी मिली हैं। फिलहाल पुलिस अपनी जांच कर रही है। स्कूल में खुद एएसपी प्रशांत आनंद ने मोर्चा संभाला है और हर पहलू की जांच कर रहे हैं । फिलहाल इस स्कूल में 396 छात्र पढ़ते हैं और उनमें से विनय को मिलाकर 148 बच्चे हॉस्टल में रह रहे थे। साथ ही स्कूल में कुल 81 टीचर्स बच्चों को पढ़ाते हैं ।


    बता दें कि शुक्रवार को विनय की हॉस्टल के बाहर हत्या कर दी गयी थी। स्कूल की ओर रात में ही उसे पहले गुरूनानक अस्पताल ले जाया गया था , फिर बाद में उसे रिम्स ले जाया गया ,जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया था । स्कूल की ओर से उसकी मौत की वजह सीढ़ियों से गिरना बताया गया , जबकि पिता का कहना है कि बच्चे के शव की जो हालत है , उसे देश कर लगता है कि उसे बुरी तरह से मारने के बाद हत्या कर दी गयी है। फिलहाल स्कूल बंद है और पूरी तरह से पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। स्कूल के प्रिंसिपल ने भी इसकी प्रमुखता से जांच करने की मांग की है।                    

  • बृजनाथी सिंह की हत्या को ADG ने बताया आपसी रंजिश का मामला

    पटना । बृजनाथी हत्याकांड ने जहां पुलिस की नाक में दम करके रखा है  तो नीतीश सरकार के मंत्रियों कती नींद उड़ाकर रख दी है। कानून व्यवस्था पर लेकर अक्सर विरोधियों के निशाने पर रहने वाली नीतीश सरकार के लिए LJPनेता की हत्या ने राज्य में लॉ एंड ऑर्डर पर बड़ा सिरदर्द दे दिया है। हालांकि मामले को आपसी रंजिश और चुनावी प्रतिद्वंदिता का नतीजा बताया जा रहा है। मामले को लेकर हो रही राजनीति पर अब खुद ADG ने एक प्रेस कॉंफ्रेंस किया औक कई पहलूओं पर प्रकाश डाला।  

    ADG  सुनील कुमार ने अपनी पीसी में बताया कि, मृतक बृजनाथी सिंह थे और उनका भी आपराधिक इतिहास रहा है । उनपर कई मामले भी दर्ज थे और वह जेल भी जा चुके थे। घरवालों ने जो FIR कराया है और उसमें जो नाम दिये हैं। वह नाम हैं – मुन्ना सिंह, रणविजय सिंह, सुनील राय , सुबोध राय एवं अन्य । इस मामले में अब तक जो बातें आयी हैं उससे यह साफ है कि बर्खाश्त सिपाही बृजनाथी सिंह थे और पहले भी जेल जा चुके थे। काफी पहले से ही मुन्ना सिंह और बृजनाथी सिंह के बीच रंजिश थी। दोनों के बीच आपसी रंजिश पिछले दो – तीन चुनावों से चल रही थी। इसलिए पटना और वैशाली पुलिस ने दो टीमें गठित की गई हैं । इसके अलावा STFकी टीम भी वहीं छापेमारी कर रही है और हमें ऐसी उम्मीद है कि संयुक्त रूप से छापेमारी करके हम इन अपराधियों की गिरफ्तारी कर लेंगे। इस कांड में ऐसे भी लिड्स मिले हैं और कुछ ऐसी भी बातें प्रकाश में आयीं हैं जो इस केस के अनुसंधान और अपराधियों के गिरफ्तारी के हित में बताना उचित नहीं होगा।

    बता दें कि शुक्रवार को पटना में कच्ची दरगाह के पास अपराधियों ने दिनदहाड़े AK- 47  से LJPनेता बृजनाथी सिंह की हत्या कर दी । इस घटमा में नेता की पत्नी और भाई की पत्नी को भी गोली लगी और वह दोनों गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं। पूरे मामले को गैंगवार बताया जा रहा है।    

  • झरिया के सुदामडीह में अचानक धंसी जमीन , 2 महिलायें हुईं जमींदोज

    धनबाद । जिले में झरिया के सुदामडीह में भूमिगत आग की वजह से जमीन धंसने का मामला सामने आया है। इससे इलाके के लोगों में दहशत कायम है। सुदामडीह ईस्ट भौरा में जहरीली गैस के रिसाव से सात घर जमींदोज हो गए हैं।  इस हादसे में दो महिलाओं के दबे होने की आशंका जताई जा रही है ।  स्थानीय लोगों ने बताया कि सुबह अचानक ही तेज आवाज हुई और धमीन धंसने लगा। मौके से जहरीली गैस का भी रिसाव हो रहा है। घटना की सूचना मिलने के बाद भी बीसीसीएल प्रबंधन की तरफ से घंटों बाद अधिकारी मौके पर पहुंचे । फिलहाल राहत और बचाव कार्य जारी है । इस घटना पर इलाके के लोगों में प्रशासन के प्रति खासा रोष है । उनका कहना है कि , सरकार इस ओर ध्यान दे। दिन में यह हादसा हुआ तो हमने खुद ही रेस्क्यू कर ली । लेकिन रात के वक्त यह हादसा हो जायेगा तो उनकी जान कौन बचायेगा।  इस धंसाव में कई मवेशियों के भी जमींदोज होने की खबर है । दरअसल इस इलाके में जमीन के अंदर लगी से इलाके का कई हिस्सा खोखला हो गदया है और उसी वजह से धंसाव होता जा रहा है। वहीं मौके ने निकल रहे जहरीले गैस से भी लोगों को जान का खतरा है। घटना के बाद से कुछ लोग तो ऐसे भी हैं जो भय से अपने घरों को छोड़कर कुछ दूर चले गये हैं।  

    बता दें कि बीते कई सालों से इलाके में जमीन के अंदर आग धधक रही है। कुछ दिन पहले ही धनबाद –चंद्रपुरा रेल लाइन से महज 150 मीटर की दूरी पर कुसुंडा रेलवे फाटक के पास जमीन धंस गयी थी।  रिपोर्ट्स के हवाले से सबसे पहले झरिया में जमीन के अंदर लगी आग का पता साल 1916 में लगा था। लेकिन उस दौरान इसे बुझाने के लिए कोई तकनीक सामने नहीं थी और साथ ही निजी मालिकों के हाथ में होने की वजह से इस ओर कभी ध्यान भी नहीं दिया गया । लेकिन साल 1971 में कोयला खदानों के राष्ट्रीयकरण का दौर जब आया तो चौंकाने वाली बात सामने आयी । रिपोर्ट्स में पता लगा कि , जब इलाके का सर्वेक्षण हुआ तो करीब17 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र की 70 जगहों पर अंदरूनी आग का पता चला। 1971 से धधक रहे झरिया में अब आग से कई इलाके ध्वस्त हुए हैं और कई घर जमींदोजी हो गये हैं । हालांकि साल 2009 में धनबाद के केंदुआडीह में ऐसा नजारा दिख चुका है, जब NH -32 HJजमीन धंसी थी औरबड़ी सी दरार आ गयी थी।  

  • LJP नेता की हत्या पर विपक्ष ने सरकार को लिया निशाने पर , कहा - ' ध्वस्त है कानून व्यवस्था '

    पटना । बिहार में बढ़ते अपराध ग्राफ ने जहां लोगों की नींद उड़ा रखी है तो नीतीश सरकार को भी कठघरे में ला खड़ा किया है। राज्य में कानून व्यवस्था कायम रखने के मुद्दे पर महागठबंधन की जीत हुई। सीएम नीतीश कुमार अपने हर कार्यक्रम में इस बात पर जोरल भी देते हैं ।  लेकिन सूबे में बढ़ती आपराधिक घटनाओं के बीच दिनदहाड़े राजधानी में AK- 47  से LJP नेता की हत्या ने तो सरकार को कठघरे में ला खड़ा किया है। इस हत्याकांड ने साथ ही इस बात की ओर भी इशारा कर दिया है कि पुलिस राज का कोई डर अपराधियों में नहीं रहा और मामले में SSP मनु महाराज की भूमिका की जांच ने भी कानून व्यवस्था को नये मोड़ पर ला खड़ा किया है। अपराधियों को अब इस बात का यकीन हो चला है कि आसानी से वे आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे सकते हैं। LJP नेता बृजनाथी सिंह पर कई आपराधिक मामले दर्ज थे और गैंगवार में हत्या की आशंका जतायी जा रही है। इस पर सियासत ने भी रंग पकड़ लिया है और कानून व्यवस्था पर फिर से सवाल खड़े किये हैं।             

    बृजनाथी हत्याकांड पर नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने नीतीश सरकार के साथ ही राज्य की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किये हैं। उनका कहना है कि , ‘राज्य में अपराध थमने का नाम नहीं ले रहा है। सरकार की लाख घोषणाओं के बावजूद  राज्य में हर ओर कानून का राज धवस्त हो गया है। ना तो कोई देखने वाला है और ना ही कोई सुनने वाला है। दिनदहाड़े अपराधी AK -47  से लोगों की हत्या कर रहे हैं । किसी की भी जाम चली जा रही है। अपराधी आये दिन सरकार को चुनौती दे रहे हैं और सरकार के स्तर पर जो कार्रवाई होनी चाहिए वह नहीं हो पा रही है। जबकि नेता प्रतिपक्ष के सरकार पर लगाये गये आरोपों का जेडीयू प्रवक्ता संजय सिंह ने पहलवार किया है । संजय सिंह का कहना है कि , ‘राघोपुर में कल जो घटना घटी है , वह निश्तिच तौर पर अच्छी बात नहीं है। लेकिन जो यह घटना घटी है , वह आपसी वर्चस्व की लड़ाई थी। पुलिस तहकीकात कर रही है , अपराधी जल्द ही पकड़े जायेंगे।     

  • राजनीतिक प्रतिद्वंदिता में हुई बृजनाथी की हत्या, SSP मनु महाराज की भूमिका पर भी उठे सवाल

    पटना । दिनदहाड़े पटना के कच्ची दरगाह के पास AK-47 से छलनी कर दिए गए एलजेपी नेता बृजनाथी सिंह का शव जब उनके  उनके पैतृक गांव राघोपुर पहुंचा तो भारी रोष देखने को मिला। परिवार में प्रशासन के प्रति गुस्सा है। बृजनाथी सिंह की हत्या में पुरानी रंजिश के अलावा राजनीतिक प्रतिद्वंदिता का एंगल भी खंगाला जा रहा है। एक अपराधी मुन्ना सिंह और बृजनाथी सिंह के बीच पुरानी राजनीतिक प्रतिद्वंदिता की बात खुलकर सामने आयी है । बृजनाथी सिंह के परिजनों ने SSP मनु महाराज की भूमिका पर भी सवाल उठाया है । एडीजी सुनील कुमार ने कहा है कि STF पटना, वैशाली पुलिस इस मामले में अब संयुक्त कार्रवाई कर रही है।

    हालांमकि बृजनाथी सिंह का अपराध से पुराना नाता रहा है और उनपर हत्या से अपहरण तक के कई मामले भी दर्ज  हैं। इसलिए बृजनाथी की हत्या गैंगवार का नतीजा भी हो सकती है। इससे पहले भी इनपर जानलेवा हमला हुआ था  , लेकिन उसमें वह बाल- बाल बच गये थे। उसके बाद से ही बृजनाथी सिंह अपराधियों के निशाने पर थे और शुक्रवार को खुलेआम अपराधियों ने राजधानी में उन्हें AK-47 से 27 गोलियां मारी , जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गयी ।

    पुलिस की नौकरी छोड़कर बृजनाथी सिंह ने साल 1990 में अपराध की दुनिया में पांव रखा था। साल 2000 में बृजनाथी सिंह ने एक डीलर को सरेआम गाड़ी से खींचकर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी। उसके बाद से चर्चा में आए बृजनाथी का नाम पिछले ही साल दरोगा हत्याकांड में भी आने पर चर्चा में आया था। बता दें कि बृजनाथी सिंह ने अपनी पत्नी को पूर्व सीएम राबड़ी देवी के खिलाफ विधानसभा का चुनाव साल 1998 और 2000 में लड़वाया था। पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में बृजनाथी ने अपने बेटे को तेजस्वी यादव के खिलाफ चुनाव लड़वाया था।

    शुक्रवार को दिनदहाड़े AK- 47 से अपराधियों ने पटना के कच्ची दरगाह के पास LJP नेता बृजनाथी सिंह की हत्या कर दी । इस गोलीबारी में बृजनाथी सिंह की पत्नी और उनके भाई की पत्नी भी गंभीर रूप से जख्मी हुए हैं। फिलहाल दोनों की हालत नाजुक बतायी जा रही है। घटना के 12 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं । 

 
LIVE NEWS
BIG NEWS
 
KASHISH NEWS PROGRAMMES
kashish News Programmes...
 
 
 
व्यापार
अब मिनरल वॉटर से भी सस्ता हुआ क्रूड, तेल की कीमतों में हो सकती है गिरावट

नई दिल्ली । लगातार कीमतों में हुए रिकॉर्ड गिरावट की वजह से भारत में बिकने वाले मिनरल वॉटर के बोटलों से भी ज्यादा सस्ते कच्चे तेल हो गये हैं । भारत के बाजारों में अब...

बॉलीवुड
WOW : ऑस्कर अवॉर्ड्स में प्रियंका बनेंगी प्रेजेंटर

मुंबई । 88thऑस्कर अवॉर्ड्स नाइट में इस बार भारत का परचम लहरायेगा। स्कर अवॉर्ड्स 29 फरवरी को होने वाले हैं । रेप कार्पेट...

 
खेल जगत
..PICTURE GALLERY
आपकी राय
क्या पंचायतों में महिलाओं के लिए 50% आरक्षण की बात चुनावी शिगूफा हैं?
 
 
प्रादेशिक
विश्वजगत
 
Facebook Like
जरुर देखें
KASHISH NEWS OTHER SERVICES BE CONECTED   LINKS
© 2016 Kasish News. All rights reserved. Developed By : SAM Softech